Google – गूगल क्या है ये किसने बनाया और किस-किस काम में आता है?

क्या आप जानते है गूगल क्या है ये किसने बनाया और किस-किस काम में आता है? अगर नही तो इस पोस्ट में हम आपको गूगल की पूरी जानकारी पूरे विस्तार से समझने का प्रयास करेंगे। तो आइए जानते है गूगल क्या है?

आज के इस समय मे कौन है जो इंटरनेट का इस्तमाल नही करता है। अगर हमे किसी भी चिज़ का जवाब चाहिये होता है तो हम सबसे पहले गूगल पर जाते है, पर क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर ये गूगल क्या है? ये किसने बनाया और किस-किस काम में आता है?

अक्सर हम किसी शब्द या चीज के प्रति अनजान होते है और उसको जानने और समझने के लिये उसको हम गूगल में सर्च कर लेते है और सर्च करने के बाद हमे उसका रिजल्ट भी बहुत आसानी के साथ मिल जाता है।

गूगल क्या है ये किसने बनाया और किस-किस काम में आता है? और गूगल का मालिक कौन है? तो आज इस पोस्ट मे आपके सभी सवालों का जवाब विस्तार से देंगे, तो इससे पहले की हम जाने गूगल कैसे काम करता है? पहले जान लेते है। गूगल क्या है।

गूगल क्या है?

गूगल एक अमेरिकन मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी हैं। आज गूगल को हम सभी के बीच एक सर्च इंजन के नाम से जानते हैं, गूगल को 1996 मे सेर्गेय ब्रिन और लार्री पेज स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में इंटरनेट पर फ़ाइलों को खोजने के लिए बनाया था, गूगल दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है, जिससे हम कुछ भी सर्च कर सकते है गूगल एक बहुत बड़ी कंपनी है जिसके प्रोडक्ट हम अपने मोबाइल में इस्तेमाल करते है जैसे कि गूगल क्रोम, गूगल मैप, जीमेल, गूगल ड्राइव, गूगल गो, गूगल लेंस इत्यादि।

गूगल को इंटरनेट की दुनिया का किंग भी कहा जाता हैं, आज सबसे जादा यूज़ करा जाने वाला सर्च इंजन गूगल ही हैं। अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार गूगल हमेशा नंबर 1 पहले स्थान पर होता है, और दुसरे स्थान पर भी गूगल का ही कब्जा है। जिसे हम सब यूट्यूब के नाम से जानते हैं।

गूगल मे हर सेकेंड 40,000 प्र्शन को सर्च किया जाता हैं मतलब पूरे दिन मे 3.5 बिलियन से अधिक प्रशनो को खोजा जाता हैं अब शयद आप समझ गये होगे कि अखिर गूगल दुनिया भर मे पहले स्थान पर किस लिये हैं।

जब हम गूगल को गूगल.कॉम या गूगल के किसी भी एक्सटेंशन से गूगल को खोलते है। तब आपको बिल्कुल सधारण सा इंटरफ़ेस देखने को मिलता हैं। पर ये सधारण सा दिखने वाला इंटरफ़ेस दुनिया के कौन-कौन मे इस्तमाल किया जा रहा होता है। लोग इसे अपनी मदद के लिये इस्तमाल करते हैं कोई इसे ऑफिस मे तो कोई इसे घर पर यूज़ करते है आज हर कोई गूगल को अपने सवालो के समधान के लिये इस्तमाल करता हैं।

आपने जाना गूगल क्या है? अब आइये गूगल के बारे में कुछ विसृत जानकारी भी समझते है।

गूगल का पूरा नाम क्या हैं?

गूगल एक शार्ट नाम है, गूगल का पूरा नाम “ग्लोबल आर्गेनाइजेशन ऑफ़ ओरिएंटेड ग्रुप लैंग्वेज ऑफ़ एअर्थ” है।

सर्च इंजन के साथ साथ गूगल एक बहोत बड़ी मल्टीनेशनल कंपनी है। अडवर्टीजमेंट, इंटरनेट एनालिटिक्स, क्लाउड कंप्यूटिंग, प्ले स्टोर, अपना खुद का ब्राउज़र यहाँ तक कि, अपना खुद का ऑपरेटिंग सिस्टम(एंड्राइड) भी है। और गूगल इन सभी से पैसा कमाती है।

गूगल की शुरुआत:

लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने शुरुआत में अपने सर्च इंजन का नाम बैकरब रखा था। इस नाम के रखने की वजह ये थी। कि यह सर्च इंजन पिछली कड़ियों के आधार पर किसी साइट की प्रायोरिटी तय करता था।

गूगल.कॉम डोमेन को 15 सितंबर, 1997 को पंजीकृत किया गया था। और इसे 4 सितंबर 1988 को शुरू किया गया। एडवर्ड कस्नेर और जेम्स नवमं के द्वारा लिखी गई। एक किताब जिसका नाम मैथेमेटिक्स एंड िम्मागिनाशन मे लिखे गये एक शब्द गूगल से प्रेरित हो कर रखा था इसका मतलब वह नंबर जिसमें एक के बाद सौ शून्य हों।

जिस समय बनाया गया था, उस समय सर्च इंजन का रिजल्ट, पेज की प्रॉयोरिटी पर निर्भर करता था। जो वेब पेज पर कीवर्ड की गणना से तय करते थ, लेकिन लैरी और सर्गेई के अनुसार एक बेहतर सर्च सिस्टम वह है। जो वेब पेज के संबंध में पूरी जानकारी दे। इस नए तकनीक को उन्होनें पेज रैंक का नाम दिया। गूगल क्या है ये किसने बनाया और किस-किस काम में आता है?

गूगल का इतिहास:

सन 1995 में दो PHD कर रहे छात्र जिनका नाम था सेर्गेय ब्रिन और लररय पेज एक दूसरे से मिले उन्होंने सोचा कि, क्यो ना हम एक वेबसाइट की दूसरे वेबसाइट से तुलना करें। जिससे उसे एक रैंक दे सके और जान पाये की कौन सी वेबसाइट अच्छी है? किस वेबसाइट को लोग ज्यादा सर्च करते है?

आज भी गूगल इसी माध्यम से काम कर रहा है। उन्होंने इसके लिए सर्च होने वाली वेबसाइट की गणना के आधार पर उसको रैंक देने का फैसला किया। और सर्च इंजन की नींव रखी।आज हम सब जिसे गूगल के नाम से जानते है। आपको बता दे कि उसका पहला नाम बैकरब था।

जैसे-जैसे समय गुजरता गया बैकरब का नाम बदलकर गूगल हो गया साल 1997 में गूगल नाम सामने आया। आपको बता दे की अभी तक गूगल 2000 से ज्यादा डूडल होमपेज बना चुका है, पर सबसे पहला डूडल होमपेज गूगल द्वारा 1998 में बनाया गया था।

जैसे-जैसे गूगल की टीम तैयार होती गयी, गूगल द्वारा नये नये प्रोडक्ट लॉन्च होते गये। और गूगल ने एक बड़ी कंपनी का रूप ले लिया। एडवर्ड, एडसेंसे, गूगल मैप, यूट्यूब, क्लाउड होस्टिंग, गूगल के इन सभी प्रोडक्ट को काफी सारे लोग इस्तेमाल करते है और इससे फायदा भी उठा रहे है।

गूगल का मलिक कौन हैं?:

पोस्ट के शुरुआत में हमने आपको दो छात्रों के बारे में बताया था वही दो छात्र लररय पेज और सेर्गेय ब्रिन गूगल के मालिक है।

इसे भी पढ़े: गूगल एनालिटिक्स क्या है और यह क्या-क्या काम कर सकता है?

गूगल का सीईओ कौन है:

आपको जानकर आश्चर्य होगा, कि दुनिया की इतनी बड़ी कंपनी गूगल का सीईओ एक भारतीय है। और उनका नाम “सुंदर पिचाई” है। ये हर भारतीयो के लिये गर्व का विषय है। आपको इनकी सैलरी जानकर भी काफी अचंभा लग सकता है। सालाना इनकी सैलरी 1200-1300 करोड़ रुपये है। वे तमिलनाडु राज्य के चेन्नई शहर के निवासी है।

भारत का नाम विश्व में रोशन करने वाले इस भारतीय इंजीनियर ने अपनी 10 वीं कक्षा तक की पढ़ाई जवाहर विद्यालय से की, जबकि अपनी 12 वीं कक्षा की पढ़ाई इन्होंने वाना वानी स्कूल से हासिल कर रखी है।

अपनी डिग्री हासिल करने के बाद ये अमेरिका चले गए थे। यहां पर जाकर इन्होंने स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में दाखिला ले लिया था। और इस विश्वविद्यालय से भौतिक विज्ञान और इंजीनियरिंग के विषय में मास्टर ऑफ साइंस की डिग्री प्राप्त की थी। इसके अलावा इन्होंने व्हार्टन स्कूल ऑफ पेंसिल्वेनिया से भी एमबीए की पढ़ाई कर रखी है।

गूगल के प्रोडक्ट्स:

  • गूगल मैप: गूगल मैप की मदद से आप किसी शहर या जगह को आसानी से फाइंड कर सकते हो। वहां तक पहोचने की पूरी जानकारी की वह लोकेशन आपकी लोकेशन से कितना दूर है। वहां पहोचने का रास्ता क्या है, आप इसमें जीपीएस की मदद से अपनी रियल लोकेशन भी पता कर सकते हो।
  • क्रोम: ये एक ब्राउज़र है जिसमे हम कुछ भी सर्च कर सकते है। ये काफी फ़ास्ट और सिंपल होने के साथ सिक्योर ब्राउज़र है जो हर मोबाइल में देखने को मिलता है।
  • जीमेल: ये एक इलेक्ट्रॉनिक इ-मेल सेवा है जिससे आप संदेश को भेज या प्राप्त कर सकते हो। यहां तक कि अगर आपको स्मार्टफोन का उपयोग करना हो, तो आपके पास जीमेल एड होनी आवश्यक होती है।
  • ब्लॉगर: अगर आप चाहते हो, कि अपना खुद का ब्लॉग बनाकर अपनी सोच एवं विचारों को लोगो तक शेयर करे, तो आप ब्लॉगर का उपयोग आसानी से कर सकते हो। ये सेवा बिलकुल फ्री है।
  • एंड्राइड: सभी के पास एंड्राइड फ़ोन है, एंड्राइड एक लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम है। जिसे आज कल सभी इस्तेमाल करते है।
  • गूगल ड्राइव: अपने उपयोगी डाटा को सुरक्षित रखने का ये एक गूगल का बढ़िया प्रोडक्ट है, रखे गए डाटा को जरूरी समय डाउनलोड भी कर सकते है।
  • गूगल एडसेंसे: अपने ब्लॉग या वेबसाइट को मोनेटाइज कर गूगल एडसेंस द्वारा पैसे कमाये जा सकते है।
  • यूट्यूब: यहाँ पर आपको लाखो वीडियो सर्च करने पर अलग-अलग विषय मे मिल जायेंगे, आप अपना खुद का वीडियो भी अपलोड कर सकते हों।
  • गूगल ट्रांसलेटर: इसकी मदद से आप किसी भी भाषा का अपनी भाषा मे अनुवाद आसानी से कर सकते हो।
  • वियर ओस: अपनी लाइफ को हेअल्थी और फिट रखने के लिये आप हर मिनिट का पूरा रिकॉर्ड आप आसानी से ट्रैक कर सकते हो।
  • गूगल डुओ: ये एक हाई क्वालिटी वीडियो कालिंग एप्लीकेशन है जिससे आप अपने स्वजनों से अपने स्मार्टफोन की मदद से फेस टू फेस बात कर सकते हो।
  • क्रोम ओस: ये लैपटॉप और कंप्यूटर के लिये गूगल द्वारा बनाया गया ऑपरेटिंग सिस्टम है।
  • क्रोमेकास्ट: अगर आप अपने मोबाइल को अपनी टीवी में देखना चाहते हो या यूं कहें कि स्ट्रीम करना चाहते हो तो आप इससे आसानी से कर सकते हो।
  • बुक्स: अगर आप अपने स्मार्टफोन में इ-बुक्स पढ़ना पसंद करते है तो इससे आप ये काम कर सकते है।
  • कैलेंडर: इसकी मदद से आप अपना टाइम टेबल फिक्स कर सकते हो आपने सेट किये टाइम पर रिमाइंडर बजता है जिससे आपको पता चल जाता है।
  • एनालिटिक्स: इससे आप अपने प्रोडक्ट की रोजमर्रा की गतिविधियां ट्रैक कर सकते हो।
  • गूगल माय बिज़नेस: आप अपने शॉप या बिल्डिंग की लोकेशन को गूगल मैप पर डाल सकते हो।
  • गूगल असिस्टेंट: इसकी मदद से आप अपने सवालो के जवाब को अपने अपनी भाषा की वौइस् के रूप में पा सकते हो।
  • गूगल विफई: आप अपने घर पर इसका उपयोग कर घर के हर कोने में विफई का मजा ले सकते हो।
  • गूगल एअर्थ: इसकी मदद से आप पूरी दुनिया की जानकारी एवं सैर कर सकते हो।
  • गूगल डॉक्स: माइक्रोसॉफ्ट आफिस के जरूरी डाक्यूमेंट्स को इसके जरिये ऑनलाइन खोल सकते है।
  • गूगल लेंस: ये एक गूगल का ऐसा फ़ीचर्स है जिससे हम किसी भी फ़ोटो में दिखाई दिए जाने वाले ऑब्जेक्ट को जान सकते है कि वह आखिर क्या है।
  • गूगल गो: ये एक एप्लीकेशन है, जिसमे आपको कुछ ऐसे फीचर्स मिलते है जिसका उपयोग कर अपने काम को बेहद आसान बना सकते है। लगभग 7MB की इस एप्प में आपको लेटेस्ट करंट सेअर्चेस जिसमे लोग सबसे ज्यादा क्या देखना पसंद कर रहे है, वौइस् सर्च की, गूगल लेंस की सुविधा, लेटेस्ट खबरे, भी आपको मिल जाएगी सिर्फ ये ही नही, अगर आप किसी पोस्ट पर सर्च कर पहुचते हो और चाहते हो कि वह पूरी पोस्ट पढ़ने के बजाय आपको पढ़कर सुनाई दे तो ये भी सुविधा आपको गूगल गो एप्प में मिलेगी।
  • कीप: इससे आप अपने जरूरी नोट्स, वौइस् नोट्स को सेव कर सकते हो।

ये थे कुछ गूगल प्रोडक्ट जिसका उपयोग कर हम अपने काम को आसान कर सकते है।

गूगल किस देश की कंपनी है:

अक्सर आपके मन से सवाल आता होगा कि गूगल किस देश की कंपनी है? गूगल का पता क्या है? तो हम आपको बतादे की गूगल अमेरिका की कंपनी है। अमेरिका के राज्य केलिफोर्निया में इसका ऑफिस स्थित है। आप गूगल के अन्य एड्रेस नीचे देख सकते है।

अगर बात करे इंडिया की तो यहाँ गूगल के मुख्य आफिस 3 जगह पर है।
  • बैंगलोर
  • गुडगाँव
  • मुंबई

गूगल कैसे काम करता हैं?

इंटरनेट पर ऐसी बहुत सारी वेबसाइट के वेब पेज है जो कि आपको अनेक प्रकार की जानकारी प्रदान करती है।उन सभी वेबसाइट और आर्टिकल को गूगल सबसे पहले अपने सिस्टम में स्टोर कर लेता है। गूगल क्रौलर उन सभी वेबसाइट ओर सभी वेबसाइट के वेबपेज को पूरी तरह समझता है, और ये तय करता है कि किस कीवर्ड के सर्च करने पर कौन सी वेबसाइट का कौन सा वेबपेज दिखाना है।

गूगल ये भी देखता है कि कौन सी वेबपेज पर लोग ज्यादा समय बिताते हैं, अगर लोग पेज पर आकर जल्दी से वापस चले जाता है तो गूगल उस पेज को बाउंस रेट ज्यादा होने के हिसाब से पहले पेज पर नही दिखता।

वैसे ही अगर किसीने कोई नयी वेबसाइट बनाई है तो उसे गूगल के सर्च इंजिन्स को ज़रूर सबमिट करवाना चाहिये। जिससे गूगल को हम बता सके कि हमारी नयी वेबसाइट है जिससे गूगल क्रौलर हमारी वेबसाइट की पूरी जानकारी पा सके।

इतना करने के बाद गूगल क्रौलर हमारी वेबसाइट पर अकर हर एक पोस्ट पर जो भी जानकाअरी होगी, आपकी वेबसाइट का पूरा डेटा स्टोर करता है। फिर गूगल का अलगोरिधम ये फैसला करता है कि वह पोस्ट कौनसी रैंक पर शो करवानी है।

गूगल की कमाई कितनी है?:

आपके मन मे ये सवाल आते होंगे कि गूगल की एक दिन की कितनी कमाई हैं? या फिर गूगल की एक सेकेंड की कितनी कमाई हैं? और देखा गया है कि अक्सर गूगल में ही गूगल से उसकी कमाई के बारे में पूछा जाता है। तो इसके विषय मे भी कुछ चर्चा कर लेते है।

गूगल की इनकम के बारे में सुन कर हो सकता है आपको काफी आश्चर्य हो। आपको विश्वास नही होगा कि गूगल हर रोज 6.8 करोड़ रोजाना कमाती है, और अगर इसे कैलकुलेट करे सेकंड के हिसाब से तो हर सेकंड में गूगल 45000 कमाती है और दिन प्रति दिन ये आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है, जब आप ये पोस्ट पढ़ रहे हो तब हो सकता है ये आंकड़ा बढ़ गया हो।

इसे भी पढ़े: गूगल पीपल कार्ड क्या है और गूगल पीपल कार्ड कैसे बनाये?

गूगल की कमाई कैसे होती हैं?

आप के मन मे ये सवाल जरूर आता होगा कि गूगल पर हम किसी भी वस्तु को सर्च करते है तो उसका परिणाम ढूंढने के लिए गूगल हमसे कोई पैसा नही लेता, यूट्यूब पर हम कई सारे वीडियोस फ्री में ही देखते है, जीमेल का उपयोग भी फ्री है, दूसरे प्रोडक्ट जो हम आमतौर पर उपयोग करते है लगभग सभी फ्री होते है, इसके लिये हम गूगल को कोई पैसा नही देते तो आखिर गूगल की कमाई करोड़ो में कैसे होती है?

एक बात समझ लीजिए कि जितना आपको अपने बारे में नही पता उतना गूगल आपके बारे में जनता है। आपकी उम्र से लेकर जन्म तारीख, आपका लिंग,आपकी निजी जानकारी तथा आपको किस विषय मे ज्यादा रुचि है आदि, तो गूगल इसी डाटा को ध्यान में रख कर आपके सामने आपकी रुचि के विषय जिसके साथ साथ अद्वेर्तिसेमेन्ट दिखाता है और जाहिर सी बात है अगर आपके सामने अपनी रुचि के अद्वेर्तिसेमेन्ट होंगे तो आप वहां जाओगे ही। और उसी अद्वेर्तीसे दिखाने के गूगल को एडवरटाइजर से पैसे मिलते है।

मान लीजिये आप कोई मोबाइल को खरीदने की सोच रहे है। और आप गूगल पर अपनी जरूरियात के हिसाब से सर्च कर रहे है। गूगल पर किये गये सर्च को गूगल समझ जाता है कि आपको किस टाइप के मोबाइल में रुचि है। और फिर आप सर्च कर किसी वीडियो या आर्टिकल पर पहुचते हैं तो वहां आपको आर्टिकल के अंदर किसी भी जगह एड्स शो होंगे जिसमे आपकी पसंद का मोबाइल दिख रहा होगा,

अब इसकी संभावना है कि आप उसपर क्लिक करे और मोबाइल को परचेस करे। जैसे ही आप परचेस कर लेते है गूगल को ये भी पता लग जाता है, अब हो सकता है दूसरी बार आपको मोबाइल की कोई एड्स ही ना दिखे। ऐसे एड्स आप किसी वेबसाइट या अप्प्स में देख सकते हो।

गूगल दो तरीको से पैसे पैसे कमाती है:

1. एड्स/एडवर्ड्स: एडवर्ड्स ये गूगल की एक ऐसी सर्विस है जिसे हम और आप अद्वेर्तिएस के नाम से जानते हैं, जैसे आम बाजार में कॉम्पिटिशन का माहौल होता है बिलकुल वैसे ही इंटरनेट के बाजार में भी आप इसका अनुभव कर सकते हैं, हर कोई अपने बिज़नेस और अपने प्रोडक्ट्स को गूगल के फर्स्ट पेज के टॉप में देखना चाहता है या यूं कहें कि लोगो तक पहुचाना चाहते है इसके लिये अद्वेर्तिसेर्स गूगल को कुछ पैसे देते है जिससे गूगल आपके बिज़नेस और प्रोडक्ट्स को गूगल के पहले पेज़ पर एक एड्स के रूप मे दिखाता हैं

  • एडवर्ड की सबसे खास बात यह है कि आपसे पैसे तभी लिये जाते हैं जब कोई विज़िटर आपके बिज़नेस के एड्स पर जो गूगल दिखाता हैं उस पर कोई एक्शन लेता हैं।
  • जो लोग अपने किसी प्रोडक्ट या अपने बिज़नेस को प्रमोट या अपनी वेबसाइट पर ज्यदा विज़िटर्स को लाना चहते हैं वो गूगल की इस सर्विस “गूगल एडवर्ड्स” का इस्तमाल करते हैं

2. एडसेंसे: एडसेंसे भी गूगल एडवर्ड्स की तरह एक सर्विस है यहा पर गूगल पब्लिशर के साथ मिलकर अद्वेर्तिसेस के एड्स को पब्लिशर की वेबसाइट या ब्लॉग पर दिखाता हैं।

  • इसमें गूगल पब्लिशर्स के साथ मे मिलकर पब्लिशर की वेबसाइट और ब्लोग पर एड्स को दिखाता हैं एड्स पर क्लिक होने पर जितनी भी एअर्निंग होती हैं उसमे से गूगल भी उस कमाई का कुछ हिस्सा अपने पास रख लेता है और बाकी का पैसा पब्लिशर के अकाउंट मे महिने की 21 तरिख को उसके बैंक अकाउंट मे दे दिया जाता हैं।

इसे भी पढ़े: गूगल कीवर्ड प्लानर टूल क्या है और कीवर्ड रिसर्च करने में इस टूल का यूज़ कैसे करें?

आज नया क्या सिखा?

मुझे लगता है की आप लोगों को गूगल क्या है?ये किसने बनाया और किस-किस काम में आता है? गूगल अपनी कमाई कैसे करता है इन सवालो के जावब मिल गये हैं और मुझे अशा हैंं कि कि आप इसेे समझ गये होगेेऔर अब आप इसकेेबारे मे दुसरो को भी बता सकतेे है गूगल हर दिन अपने प्रोग्राम्स अल्गोरिथम गूगल को और भी बेहतर बनाने के लिये चंगेस करता रहता हैं गूगल क्या है ये किसने बनाया और किस-किस काम में आता है?

दोस्तो आपसे गुजारिस है की आप हमारी इस गूगल सेे जुडी जानकारी को अपने सभी दोस्तो के साथ में शेयर करें, जिससे की हमारे सभी दोस्तो को भी गूगल क्या है के बारे मे कुछ जानकारी मिल सके।

हमारी हमेशा से बस यही कोशिश रही है की मैं हमेशा अपने सभी दोस्तो की हर तरह की हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को हमारी जानकारी गूगल क्या है ये किसने बनाया और किस-किस काम में आता है? से जुडी किसी भी तरह की कोई भी डाउट है या आपको लगता है इसमे हमे कुछ सुधार करने कि जरूरत हैं तो आप हमे जरुर बताये, मैं उसे सुधारने मे कोशिश करूँगा. आपको यह पोस्ट कैसा लगा हमें कमेंट लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले. मेरे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए,

कृपया इस पोस्ट को सोशल नेटवर्क्स जैसे कि: व्हाट्सप्प फेसबुक, गूगल प्लस और ट्विटर इत्यादि पर शेयर कीजिये |

Sagar Biswashttps://24hindi.in
Sagar Biswas is the Chief Seo Expert and the Founder of ‘24Hindi’. He has a very deep interest in all current affairs topics whatsoever. Well, he is the power of our team and he lives in Surat. Who loves to be a self dependent person.

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Unlimited

Insurance – इन्शुरन्स क्या है और यह कितने तरह का होता है पूरी जानकारी हिन्दी में।

हेलो दोस्तों आप सभी का "24Hindi" आपका स्वागत है आज इस आर्टिकल में हम बात करेंगे की इन्शुरन्स क्या है और यह कितने तरह...

Insurance – इन्शुरन्स क्या होता हैं? जाने इन्शुरन्स कितने प्रकार के होते हैं और इन्शुरन्स करवाने के फायदे।

इन्शुरन्स यानी कि बीमा क्या होता हैं? इन्शुरन्स कितने प्रकार के होते हैं? अथवा इन्शुरन्स कराने से हमें क्या लाभ मिलता हैं? ऐसे कई...

Most Popular

Hardum Humdum Song Lyrics – हरदम हमदम गाने की लिरिक्स डाउनलोड करें हिंदी में

हरदम हमदम गाने की लिरिक्स: अरिजीत सिंह द्वारा गाया गए फिल्म लूडो से हिंदी में हरदम हमदम गीत। इस गीत को सईद क्वाडरी ने...

Taare Balliye Song Lyrics – तारे बल्लिये गाने की लिरिक्स डाउनलोड करें हिंदी में

तारे बल्लिये सांग लिरिक्स: हिन्दी में तारे बल्लिये गीत, अम्मी विर्क द्वारा गाया गया। यह पंजाबी गीत हैप्पी रायकोटी द्वारा लिखा गया है और...